SHIV-SHAKTI AAP

0
73
Heartouching Peom by Aghori Sadhu
Heartouching Peom by Aghori Sadhu
SHIVSHAKTI

” रीत आप प्रीत आप
प्रेम में अनुरक्ती आप
राग आप अनुराग आप
प्रेम में मधुमास आप
बिंदिया आप बिछिया आप
प्रेम का श्रृंगार आप
भक्ति आप मुक्ति आप
प्रेम में आसक्ति आप
मनन आप लगन आप
प्रेम में समर्पण आप
नेह आप प्यार आप
प्रेम का उपहार आप
पुण्य आप प्रताप आप
प्रेम में मिलाप आप
कर्म आप धर्म आप
प्रेम का हर अर्थ आप
योग आप संयोग आप
प्रेम का वियोग आप
सिद्धि आप साधना आप
प्रेम की तपस्या आप
तृप्ति आप प्राप्ति आप
प्रेम की प्रतीक्षा आप
वसंत आप वरण आप
प्रेम का सर्वस्व आप
सांस आप नि:श्वास आप
प्रेम की हर आस आप
शिव भी आप शक्ति आप
प्रेम का शिवाला आप”

मूल कृति : Shree आदेशनाथji अघोरी

” Reet aap Preet aap
Prem me Anurakti aap
Raag aap Anuraag aap
Prem me Madhumass aap
Bindiya aap Bichiya aap
Prem ka Shrungar aap
Bhakti aap Mukti aap
Prem me Aasakti aap
Manan aap Lagan aap
Prem me Samarpan aap
Neh aap Pyaar aap
Prem ka Uphar aap
Punya aap Pratap aap
Prem me Milaap aap
Karm aap Dharm aap
Prem ka har Arth aap
Yog aap Sanyog aap
Prem ka Viyog aap
Siddhi aap Sadhana aap
Prem ki Tapasya aap
Trupti aap Prapti aap
Prem ki Pratiksha aap
Vasanth aap Varan aap
Prem ka Sarvasva aap
Sans aap Nihswash aap
Prem ki har Aas aap
SHIV bhi aap SHAKTI aap
Prem ka SHIVAALA aap “

Mool Kruti : Shree AadeshNathji Aghori

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here